Featured

Bhrigu Lake Trek

View in May month

Duration:  3 Nights/4 Days

Manali-Kulang Nallah – Mori Thatch – Bota Dug – Bhrigu Lake – Vashisth Hot Springs

Brief Details

Trek Level: Easy to moderate

Trek Distance: 26 km

Summers on plains are the time of heat waves and suffering while for mountains, summers mean an opportunity to visit places that remain hidden and impossible to reach for the rest of the year. The Pandavas and the rishi munis headed to the pristine Himalayan lakes for Moksha in Satyug. Even today, these lakes are no less than paradise on earth.

Bhrigu lake is one of those heavenly places on earth. This hilltop lake at a height of 14,000 Ft. is suitable for humans only during 4 months of summer and presents a 360-degree view showcasing the merger of the Dhauladhar and Pir Panjal ranges of the Himalayas.

Bhrigu lake is said to be where Maharshi Bhrigu used to take a dip during his days of penance. This lake is part of the broadest valley of Himachal – Manali. Manali is known for its natural beauty, greenery and white shawl of snow. Manali boasts of several high-altitude treks and Bhrigu lake is among the 3 most beautiful treks.


Why Us

Trekking these days has become a money-making business and travel companies are pouring into milk this trend. Unfortunately, they don’t care about either the experience of trekkers or the fragile ecosystem of the Himalayas. These travel companies usually travel with a group of 30-50 people and only 2-3 guides. Sitting in their 5star offices in cities, they aren’t aware of the beauty and peace of trek places. Herding trekkers like goats, they create an environment of crowded places even on trekking routes. On top of that, they hire local guides and pay them marginal money. The trekking routes preserved by the villagers of Himachal for thousand of years should benefit them not the people from the cities because these lakes are sacred to them and they care for the Himalayas like their own home.

We are a group of people from a small village of Manali and this trekking tour is our attempt to make travellers experience nature at its best.

We organise personalised & customised trek groups of 5-7people so that each member gets duly attention by our guide and we have enough time and peace to experience the trek route at its best.

View in July month

Upcoming Dates

We organise customised personal treks

Plan your dates (min. 5 people and max 10)

Plan your dates (min. 5 people and max 10)

Detailed Itinerary:

Day 01: Drive + Trek

Arrival at Base Camp – Manali bus stand

Meet us at Manali Base Camp on your own (Trekkers are advised to arrive in Manali a day earlier for acclimatization)

Meeting Time: 8.00 AM (After breakfast)

Drive from Manali Base Camp to Kulang Nallah (1 Hour Drive)

The drive will take you through the beautiful valley of Solang where you can see the adventure sports of Manali. Paragliders will cross over you like colourful butterflies and the narrow valley of Solang will fill your lungs with the fresh oxygen generated by the Manali national park.

Trek begins at Kulang Village & ends at Mori Thatch Campsite (Elevation 2500 Mt)

Distance: 4 KMS 

Duration: 4 HOURS (10 am to 2 PM)

Departure time: 11 Am

Expected Arrival time: 3 pm

Lunch: Pack Lunch during the trek

Overnight stay in tents at Mori Thatch.

There is only 1 source of water during this journey (depending on the season/month), so please carry sufficient water in your bottle (DON’T CARRY PLASTIC WATER BOTTLES). You can refill at the trek beginning point – Kulang Village. 

After a hike of 4 hours, we will arrive at our first campsite – Mori Thatch. 

Known for its grassland, Mori thatch is a perfect scenic campsite with a 180-degree view. The highest peak of Dhauladhar – Hanuman Tibba will be glowing in front of you. The camping spot is adjacent to the water stream flowing across the meadows.

The journey to Mori Thatch is moderate and will take around 3 – 4 hours. There are two streams on the way to the campsite (Chor Nallah and Kohli Nallah). 


Day 02: Mori Thatch Campsite to Bota dug (Elevation 2900 Mt)

Distance:  6 KMS 

Duration: 6 HOURS (8 AM to 2 PM)

Departure time: 8 Am

Expected Arrival time: 2pm

Lunch: Hot Lunch at the Bota Dug campsite

Overnight stay in tents at Bota Dug.

The trail from Mori Thatch to Bota dug is mostly through easy hiking amid the forest of bhojpatr (Betula Utilis) and ends at the pristine high-altitude meadows. The campsite of Bota Dug is located at the end of the tree line. The unending grassland dotted with patches of colourful wildflowers is a delight for your eyes and soul. Relax here and soak in the smiles of nature that flourish here in the form of flowers. The climb of 1-2hours is steep and you gain an elevation of 300 Mt.

Day 03: Trek to Bhrigu Lake & back to Bota Dug Campsite                      

 (Max. Elevation 4275 Mt)

Distance:  10 KMS 

Duration: 8 HOURS (7 Am to 4 PM)

Departure time: 7 Am

Expected Arrival time: 4 pm

Halt @ Bhrigu Lake: 1 PM (halt of 1 hour) depending on weather condition

Lunch: Packed Lunch 

Overnight stay in tents at Bota Dug.

We have to leave early on this day as we need to come back to our campsite. After breakfast, we will begin trekking toward the Lake and hike for around 4 hours to reach Bhrigu. Trekkers need to carry packed lunch and have it by the lakeside. This is a holy site so please maintain the calm and cleanliness of this lake.


After lunch, we will return to Mori Thatch campsite via Pandu Ropa which gives a 360-degree view of the entire valley.



Day 04: Descend to Vashisth Hot Water Spring

Distance:  8 KMS 

Duration: 5 HOURS (8 Am to 1 PM)

Departure time: 8 Am

Expected Arrival time: 1 pm

Lunch: Packed Lunch 

The entire route on this day will be a steep descent. The trek will end at the Vasishth village where a dip in the hot water spring will take away all your tiredness and the sulphur water will relax your body and mind. The trail passes through a dense and green deodar forest range.

A car will pick us up from Vashisth and drop us at the Manali bus stand. From here trekkers can explore the Manali mall road or other touristic places on their own.


Package Inclusions:

  • Transportation from Manali to Manali
  • Trek permits & camping licence
  • Tents on twin/triple sharing basis
  • The food includes 3 meals + evening snacks (Only Veg food is served however eggs can be provided in breakfast)
  • Professional guide, cook, helpers and horses for carriage
  • Sleeping bags/inner, sleeping mats and all other camping pieces of pieces of equipment

Not included:

  • Any food and accommodation in towns (pick up & drop location)
  • Carriage of personal items (trek bag or any other material)
  • All road head to road head transport will be on actual. 

Things to carry

Trek Gears :

  • Trekking bag of 40 to 60 L with rain cover
  • A handy sling bag 
  • Trekking Shoes with good grips 
  • Floaters / lightweight slippers
  • Trekking Pole
  • Tennis Cap
  • Poncho
  • Sunglasses with UV protection
  • Bluetooth earplugs (speakers are not allowed)
  • Power bank

Clothes :

  • Full Sleeve T-shirts (preferably dry fit & collared) – 2
  • Trekking Pants – 2 
  • Lightweight sweater – 1
  • Lightweight jacket (down jacket)- 1
  • Socks – 2 pairs of cotton
  • Hand Towel – 1 
  • Gloves – 1 pair (lightweight)
  • Innerwear – 3 (at least)
  • Woollen Cap (for the night)

Personal Care Items :

  • Toiletry Kit
  • Moisturiser
  • Sunscreen (Sunlight on mountains is strong and tends to cause sunburn)
  • Toilet paper roll (WET TISSUES ARE NOT ALLOWED)
  • Paper napkins

Emergency Medicines :

  1. Diamox: For mountain sickness   
  2. Combi flam: It is a pain reliever for your muscles at the day end
  3. Avomine: For motion sickness. Pop one, a half hour before you start your road journey.
  4. Digene: Elevation often causes indigestion and gastric
  5. ORS: This should be your must-have on every trip
  6. Knee Brace: Backup for knee pain 
  7. Moov/Volini
  8. Hot Bandage

Featured

बादल और नदी का प्रेम

प्रथम भाग 

ऊँचे आसमान में उड़ते एक मदमस्त बादल की नज़र अचानक ही भूतल पर विचरण करती एक शांत नदी पर पड़ती है। बादल यह देखकर अच्म्भित रह जाता है कि नदी में  उसे अपना प्रतिबिम्ब नज़र आ रहा है। वर्षों से यात्रा करते इस बादल ने कभी खुद को इतने स्पष्ट तौर पर नहीं देखा था। उसने तो धरातल पर केवल अपनी परछाई ही पाई थी। कभी ऊँचे पहाड़ों पर तो कभी घास के सपाट मैदान में, कभी जल से भरे सागर की सतह पर तो कभी सूखे मरुस्थल में। अपनी इस लम्बी यात्रा में बादल ने कई पड़ाव तय किये और हर स्थान से एक परछाई सा गुजरता चला गया था। ना जाने कितनो ने उसकी इस परछाई को पकड़ बादल को थामना चाहा था किंतु बादल तो एक उन्मुक्त उड़ान का हो चुका था और इस उन्मुक्त्तता की मदहोशी में निरंतर उड़ता ही चला जा रहा था। ना उसका कोई तय रास्ता था ना किसी से कोई वास्ता। उसकी परछाई तो उसके अक्स का एक हिस्सा मात्र थी तो उस परछाई को छू कैसे कोई उसे जान सकता था, कोई कैसे उसे थाम सकता था?

मगर आज यह कौन नज़र आया जिसमें बादल ने अपनी एक स्पष्ट झलक पाई थी? उत्सुकता से भरे बादल ने कुछ देर ठहर जल की इस धारा में खुद को निहारने की ठानी। वह वहीं मंडराने लगा।

नीचे बहती नदी को अकस्मात् ही अपने पारदर्शी मन में कोई हलचल प्रतीत हुई। उसे ऐसा महसूस हुआ जैसे किसी ने उसे छुआ हो। नदी ने इधर उधर नज़र दौड़ाई मगर अपने आस पास किसी को ना पाया। दो आयामों (dimension) को माप नदी ने तीसरे आयाम की ओर देखा तो एक बादल को खुद में झांकते पाया।

बादल अपने ही ख़्यालों में खोया इस बात से अनभिज्ञ था कि नदी अब उसकी ओर ताक रही थी। नदी का मन हुआ की आवाज़ लगा कर बादल से पूछे – ऐ आवारा क्या टुकुर टुकुर ताक रहा है मेरी ओर? पहले कभी कोई नदी नहीं देखी क्या? मगर वह कुछ कह ना सकी, यूँ तो उसने कई बादल देखे थे किंतु यह बादल कुछ अलग सा प्रतीत हुआ। नदी को ऐसा प्रतीत हुआ जैसे बादल कुछ उस सा ही है। आकार में छोटा मगर भीतर एक संसार छिपाए हुए। कई बरस बीत गए थे उसे एक लम्बी यात्रा पर निकले हुए किंतु अब तक किसी को खुद सा ना पाया था। अपने अस्तित्व की पहचान की तलाश में पहाड़ की चोटी से उतरी नदी कई पहाड़ों, घाटियों और मैदानों का सफ़र तय कर चुकी थी। वह जहां भी जाती खुद को एक नये रूप में ही पाती। अपनी इस निरंतर यात्रा में नदी कभी झरने के रूप में ऊँचे पर्वतों से उफनती हुई बहती तो कभी किसी ऊँचे घास के मैदान में पहुँच एक शांत झील का रूप ले लेती। कभी तंग घाटियों में एक मामूली सी जल की धारा बन सिमट जाती तो कभी मैदानी पठार पर पहुँच विशाल रूप ले लेती। वह खुद तय नहीं कर पा रही थी कि उसका वास्तविक स्वरूप कौन सा है, उसकी पहचान क्या है? दुनिया उसे बस यही कहती रहती कि उसके जीवन का उद्देश्य सागर तक पहुँचना है। जब वह अपने सफ़र पर निकली, तब यही सोच कर निकली थी कि  जल्द से जल्द सागर से मिलना है और अपने जीवन के उद्देश्य को पूरा करना है। मगर पृथ्वी की सुंदरता और यात्रा की ख़ूबसूरती को देख उसने तय किया कि वह सागर से मिलने से पहले कुछ और वक्त लगायेगी इस संसार को देखने, परखने और समझने में। पिता स्वरूप पहाड़ के बताए मक़सद और मार्ग को छोड़ वह निकल पड़ी पृथ्वी पर कुछ दिनो का विचरण करने, यात्रा की ख़ूबसूरती को थोड़ा और महसूस करने। मार्ग में उसे कुछ दूसरी नदियाँ भी दि खाई पड़ीं, जो पहले ही सागर से जा मिली थीं। 

अल्हड़, चंचल और मदमस्त बहती इस नदी को देख उन परिपक्व नदियों ने उसे टोका और नए रास्तों की ओर बढ़ने का कारण जानना चाहा। किसी ने उसे अपने मार्ग पर लौट जाने को कहा तो किसी ने उसे अनजाने रास्तों का भय दिखाया। एक नदी ने तो यह तक बतलाया कि  वह भी उसी की तरह निकल पड़ी थी नए रास्ते तलाशने मगर अनजान रास्ते इतने कठिन और अनिश्चितताओं से भरे थे कि अंत में थक हार कर उसे लौट ही जाना पड़ा, अपने नियत रास्ते पर। मगर इस नदी ने हार ना मानी, उन्मुक्त सफ़र के सुख के आगे रास्तों की कठिनाइयाँ उसके लिये कुछ ना थीं। वह इठलाती, लहराती, मचलती खिलखिलाती बढ़ती रही। एक दिन एक जीर्ण शीर्ण, थकी हारी, ख़ामोश सी नदी से बात चीत के दौरान, इस उन्मुक्त नदी ने जाना कि एक नदी जब सागर से मिलती है तो सागर में समा जाती है। समुंदर ने अपने वजूद को इतना विशाल बना लिया है कि वह नदियों को अपने आगे कुछ नहीं समझता। समुंदर से मिलकर नदी अपने अस्तित्व को पाती नहीं बल्कि अपने अस्तित्व को खो बैठती है। यह सुनते ही नदी सन्न रह गई। उसकी उम्मीदों और कामनाओं का संसार एक पल में धराशाई हो गया। उसे लगा जैसे उसके जीने का उद्देश्य और उसकी अब तक की यात्रा एक झूठ की बुनियाद पर टिकी थी। तेज गति से धरती को मापती नदी एक झटके में ठहर गई। वक्त बीत रहा था और नदी आगे बढ़ने के बजाय वहीं ठहर थोड़ा फैलने लगी। उसने आगे बढ़ना का इराद त्याग दिया। कलकल करती, निरंतर बहती जल की धारा अब उद्देश्यहीन और गुमसुम तालाब सी थम चुकी थी। चंचल, अल्हड़, मनमौजी सी किशोर नदी एक झटके में प्रौढ़ सी दिखने लगी। मित्र पंछी, उसकी गोद में खेलते पौधे, उसकी सखी मछलियाँ और उसके नातेदार जानवर यह मानने लगे थे कि यह नदी का आख़िरी पड़ाव है। खुद में खोई सी, शांत हो ठहर सी गई इस नदी की शांत सतह को ही आईना समझ इस आवारा बादल ने उसमें झाँका था, अपनी ही तलाश में फिरते एक यात्री ने इस नदी में कुछ ऐसा देख लिया था जो वह कहीं ना देख सका था। 

बरसों से उड़ते बादल ने आज अपनी गति को थाम कुछ देर वहाँ ठहर नदी के भीतर झाँक खुद को देखना चाहा। बादल अपने भीतर बूँदों के रूप में ख़यालों का एक सागर लिये फिर रहा था और अक्सर अपने भीतर की इन बूँदों में खुद ही खो जाता था। कभी सिकुड़ कर नन्हा सा बादल बन जाता तो कभी अपनी इन्हीं सोच को फैला पहाड़ सा विशाल बन जाता। इस वक्त भी वह अपने ही भीतर उतर बूँदों के संसार में तैर रहा था।

नदी, जो पिछले कुछ दिनों से दूसरों से आँख बचाती फिर रही थी आज इस बादल की नज़र से सकुचाई नहीं बल्कि उसे भीतर एक कुलबुलाहट सी महसूस हुई। नदी कुछ पलों तक चुपचाप उस बादल की ओर देखती रही और बादल खुद में ही खोया रहा। नदी को पता ही ना लगा कि उसके भीतर की इस कुलबुलाहट से कलकल की ध्वनि पैदा होने लगी। कलकल की इस अचानक ध्वनि से बादल का ध्यान टूट गया और वह सकपका गया। बादल ने तुरंत नज़रें फेर ली। अब नदी की ओर उसकी पीठ थी। सर्दियों के मौसम में घर की छत पर कुछ इंच निकली चिमनी से उठते धुआँ सा था इस बादल का आकार। ना गोल ना आयत, ना त्रिकोण ना वर्ग। छोटे छोटे कई वक्रों से बना एक ऐसा स्वरूप जिसका कोई ठोस आकार नहीं। छोटा मगर दूर तक फैला हुआ, ऊपर उठता मगर पृथ्वी की सतह के साथ साथ बहता हुआ। ना इसके आरम्भ का पाता ना अंत का। आदतन नदी हर मिलने वाले की छवि और आकार मन में कुरेद लेती थी किंतु इस बार नदी कुछ समझ नहीं पा रही थी कि बादल को किस स्वरूप में याद रखेगी।

बादल आगे बढ़ने को हुआ कि तभी नदी पुकार बैठी – सुनो!

अगर आगे लिखने लायक़ है तो बताइएगा। बाक़ी का लिखा अगले ब्लॉग में डालूँगा…

Featured

संवाद

PLAY while reading

तुम मुझसे प्रेम तो करते हो लेकिन विवाह नहीं कर सकते। ये कैसा प्रेम है अरुण?

मैं विवाह नहीं कर सकता तो प्रेम भी नहीं कर सकता। ये कैसा प्रेम है विधु?

प्यार और विवाह एक दूसरे के बिना अधूरे हैं अरुण।

तो क्या राधा ने कृष्ण से प्यार नहीं किया?

हीर ने रांझा से प्यार नहीं किया?

बारिश की बूँद ने फूल से प्यार नहीं किया?

बादल ने नदी से प्यार नहीं किया?

प्रेम में पा लेना ज़रूरी तो नहीं विधु?

विधु ने खीज कर कहा – तुमसे तो बात करना ही बेकार है। 

ये क़िस्से कहानियाँ हैं अरुण, वास्तविक जीवन में ऐसा कुछ नहीं होता। इन वादियों में बैठ पहाड़, नदी, आसमान, बादल इन सबको निहारते हुए कुछ दिन तो बिताया जा सकता है मगर जीवन नहीं  बिताया जा सकता। यहाँ आना और कुछ दिन ठहर वापस लौट जाना होता है, शहर में ज़माने में, समाज में। 

ह्म्म्म्ममम

यह कहकर अरुण चुप हो गया और आसमान की तरफ़ ताकने लगा।

 यह सोचते हुए की उसका प्रेम कौन सा प्रेम था? वास्तविक दुनिया का काल्पनिक प्रेम या काल्पनिक दुनिया का वास्तविक प्रेम। आसमान को ताकते हुए नज़र पहाड़ की चोटी पर पड़ी और सोच का बादल १ तंग वादी में जा फँसा।

वह सोचने लगा – पहाड़ों ने उससे कभी क्यूँ नहीं पूछा कि वो उनके प्रेम में पड़कर हमेशा के लिए उनके साथ रहेगा या नहीं। पहाड़ कभी उससे लड़ते क्यूँ नहीं? कोई शिकायत क्यूँ नहीं करते? उनसे तो वह विधु की तरह रोज़ रोज़ मिलता भी नहीं। हफ़्तों या कभी कभी तो महीनों में आता है वो उनके पास मगर वह हर बार उसे उसी स्नेह, प्रेम और बेसब्री से मिलते हैं जैसे दूसरी बार मिले थे। 

दिमाग़ ने कहा क्यूंकिं वे बेज़ुबान हैं। दिल तुरंत खड़ा हो अपने और पहाड़ों के बीच के असंख्य संवादों की दलीलें देने लगा। दिल उन सब समवादों की याद दिलाने लगा जो दिमाग़ ने भी सचमुच महसूस किये थे। तब दिमाग़ चुप हो गया। अब मन की बारी थी, दिल और दिमाग़ के कंधे पर हाथ रख यह तीसरा मित्र खड़ा हुआ, दिमाग़ ने पूछा भई अब तुम कहाँ चल पड़े? 

मन  ने कहा तुम उलझे रहो इस दुनिया के रीति रिवाज़ और बंधनों में जकड़े प्यार में। मैं तो चला।

दिल ने कहा – मगर चले कहाँ? यह तो बताते जाओ।

मन  ने उँगली पहाड़ के सबसे ऊँचे सिरे की तरफ़ उठाई और कहा, जहाँ  प्यार को आँका नहीं जाता, ना ही तौला जाता है। वहाँ ना कोई प्यार करने पर सवाल करता है और ना ही प्यार के भविष्य पर सवाल उठाता है। 

दिमाग़ ने एक लम्बा ह्म्म्म्म्म भरा और उस ओर ताकने लगा।

दिल ने कहा, सही कह रहे हो। चलो मैं भी चलता हूँ, इस ज़माने से और इनके सवालों से थक गया हूँ अब।

मन  ने पलट कर कहा – और विधु?

उसका क्या होगा?

रह पाओगे उसके बिना?

दिल ने मायूसी से सिर झुका लिया।

मन मुस्कुरा दिया।

अरे! अरे! उदास नहीं होते।

देखो दिमाग़ भी तो बैठा है यहीं अपनी उलझनों के साथ।

तुम भी बैठो अपनी विधु और उसके संग बिताए उन पलों की यादों के साथ जब वह तुमसे इतने सवाल नहीं करती थी। 

मैं जहाँ जा रहा हूँ, वहाँ ना दिल का काम है ना दिमाग़ का।

दिमाग़ वहाँ पहुँच कर भी अपने सवालों के जवाब ढूँढता रहेगा और तुम (दिल) अपनी यादों की पोटली का वजन लिये, चलते चलते थोड़ी ही देर में थक जाओगे और फिर वहाँ से लौटना चाहोगे। तो तुम दोनो यहीं ठहरो और मैं चलता हूँ। 

दिल और दिमाग़ अब ख़ामोश थे और पर्वत की ऊँचाई की और देख मन से ईर्ष्या कर रहे थे।

मन ने एक लम्बी छलांग मारी और पर्वत की दिशा में बढ़ती एक चील की पीठ पर जा बैठा।

चील मन को लिये उड़ चली पहाड़ के उस सब से ऊँचले सिरे की ओर जहाँ दिल और दिमाग़ कभी ना पहुँच पाएँगे।

मन उड़ा चला जा रहा था।

अरुण चुपचाप बैठा पहाड़ को ताक रहा था। 

.

.

.

.

.

और विधु?

क्या वह अब भी वहाँ ठहरी थी अरुण के जवाब के लिये या जा चुकी थी?

मन और विधु में से अरुण किसको चुनेगा?

Note :

meaning of अरुण : Sun

meaning of विधु : moon

– पहाड़ प्रेमी

Featured

Hampta Pass Trek

If you opt for this trek, you need to pledge that you will keep the Himalayas clean and green and won’t let any plastic behind during the trek and camp!

Help us to clean the plastic around campsites (which our team will bring back to base camp).
Himalayas are no littering zone. Let’s keep it as beautiful as the nature offered it to us.

Page Summary

  1. About
  2. What will you experience during the trek?
  3. The Best month for Hampta Pass
  4. Dates for the upcoming trek
  5. Itinerary
  6. Budget, Amenities & Cancellation
  7. Who should do this trek
  8. Things to carry
  9. Covid-19 protocol
  10. Why trek with the HimalayanDrives team

About

If you are familiar with trekking in India, you must have heard about the Hampta Pass Trek. The most popular trek route among trekkers of India and foreigners who travel to India for experiencing the purest form of nature. 

If Hampta Pass Trek is new to you, let me summarise it in six words “Valley of flowers in Himachal Pradesh”. 

Hampta pass trek connects two beautiful but contrasting valleys of Himachal – Kullu valley & Lahaul Valley. The Kullu valley is known for its green lustre, natural flower orchids, meadows and dense forests. The Lahaul Valley is known as no vegetation land. It looks like stark grey colour in summers and a white blanket of snow covers in winters. 

The trek route passes through a narrow & rocky valley of Pir Panjal range. Another well-known pass to this range is Rohtang pass which has a motor road. This route was developed by shepherds in ancient times when they had to move their cattle from snow-covered Lahaul valley to the meadows of Kullu for grazing. Hampta pass inherits its name from the ‘village Hampta’ near Manali which is the most favourite hill station in India.

The best part of this trek is that it ends near the most beautiful lake of Himachal – Chandertal Lake. So you enjoy trekking, a glacial lake, offroad driving, snow and a mini-tour of Spiti valley.

Region : Manali, Himachal Pradesh

Duration: 6Days / 5 Nights

Trek Length: 35Km

Maximum Elevation: 14,000 Feet

Difficulty Level: 4days of easy hiking and 1 day of moderately steep hike

Group Size : 10 Persons

How to reach: Manali is well connected with Chandigarh & Delhi by overnight Volvo buses and the nearest airport is 2 hours away in Kullu

Page summary

The meadows of Kullu valley

What will you experience in this trek ?

  • Most beautiful drive and hiking of your life amid the thick forest of Pines, Oak and Walnut 
  • Culture of Himachal preserved in the old villages nestled in high mountains
  • Green carpet meadows spread till your eyes can wander on
  • Seasonal wildflowers river delta which you may mistake as a beach and the snow walks near the pass
  • Several small and big streams based on the month of your trek
  • Stark white and grey Lahaul 
  • A peaceful afternoon at the most pristine lake of Himachal – Chandertal lake
  • An adventurous drive of Rohtang pass

#Page-Summary

Chandertal Lake

The Best month for Hampta Pass

Hampta pass remains open between June to October and stays covered with snow for the rest of the year. Every month has its charm and beauty in this trek. 

  • June: If you want to experience a snow trek 
  • July: If you want to experience the valley filled with wildflowers
  • August: If you want to experience lush green and monsoon trek
  • September: If you want to experience a clear sky and Autumn vibes (Temperature may fall below 0 degrees)
  • October: If you want to experience a clear sky and snowfall trek (For only experienced trekkers )

#Page-Summary

Dates for the upcoming trek

  • 26th June (Sun) to 1st Jul (Fri)

  • 9th July (Sat) to 14th July (Thu)

  • 13th Aug (Sat) to 18th Aug(Thu)

Leave from your city on 30th July night (Friday), reach Manali on Saturday, rest for half a day

Departure from Jagatsukh village near Manali by noon on 1st August

Reach back to Manali on 6th Evening (Friday), head back to your city and rest over the weekend and cherish your trek moments

  • 15th August (Sun) to 20th August (Fri)

Leave from your city on 13th night (Friday), reach Manali on Saturday, rest for half a day

Departure from Jagatsukh village near Manali by noon on 15th August

Reach back to Manali on 20th Evening (Friday), head back to your city and rest over the weekend and cherish your trek moments

Note: 

  • There should be a minimum of 8 people to execute this trek
  • A special date plan can be selected if you are in group

#Page-Summary

Itinerary

The assembly point is Jagatsukh village in Manali which is 15km from Volvo bus stand

Day 1: Drive from Jagasukh to Jobra and hike to CAMPSITE 1 – Chhika. Experience the never before seen drive stretch where you gain an elevation of 1000m in less than an hour and trek in a dense forest

Day 2: Trek begins at 8 am post breakfast and end at the CAMPSITE 2 – Jawara by lunch. Experience the mini forests, small streams, green meadows and camping near a giant waterfall/stream.

Day 3: Trek begins at 8 am post breakfast and end at the CAMPSITE 3 – Baalu Ghera by lunch. Experience the river crossing, the challenge of boulders, small streams, and camping near a stream.

Day 4: Trek begins at 8 am post breakfast and end at the CAMPSITE 4 – Shia Goru. Experience the thrill of crossing the Hampta Pass at 14,000Feet, skiing on snow while descending and camping on a riverbank amid a valley filled with wildflowers.

Day 5: Trek begins with a river crossing and ends at base camp Chhatru. 2 hours offroad Drive to Chandertal in the pickup vehicle and stay at CAMPSITE 5 – Chhatru

Day 6: Drive back to Jagatsukh via Rohtang pass. Experience the adventurous drive of Lahaul valley and the high pass drive of Rohtang.

Note : The itinerary is subject to climatic condition on that particular day

#Page-Summary

The view you will see on Day 1

The view you will see on Day 2

The view you will see on Day 3
The view, you will see on Day 4

The view you will see on Day 5

The view you will see on Day 6 (Lahaul Valley)

Our journey will end like this @ Chandertal Lake

Budget, Amenities & Cancellation

Price: INR 9,000 /- 

What’s included :

  • All required licenses for trek and campsites
  • 2 Professional guides & 1 Trek Manager
  • Emergency equipment & basic First Aid
  • Bridge tents with triple sharing
  • Sleeping Bags with personal inner layers
  • Mules and horses to carry the tents, sleeping bags & kitchen material
  • All 3 meals, evening Tea/snacks
  • Portable dry toilets
  • Transportation till Jorba
  • Transportation for Chandertal lake from Sarchu and return to Manali

Extra facilities that can be arranged : 

  • If you don’t want to carry your baggage, it can be carried on mules for an extra charge of INR 1000 with max weight of 8kg
  • For camera equipment, a dedicated porter can be arranged @ INR 5000 /- bag
  • For these services, one need to inform at least 2 days before the trek begins

#Page-Summary

Cancellation policy

  1. 21 days before Trek begins – Handling charges of INR500 will be deducted
  2. 15 Days before Trek begins – Booking charges of INR1500 will be deducted
  3. 10 Days before the Trek begins – Cancellation charges of INR5500 will be deducted
  4. Last 7 Days – No refund

Note:

  • All medical ailments should be declared before the trip
  • Any kind of food allergies should be notified beforehand
  • Any unforeseen weather condition or Covid-19 lockdown may lead to the cancellation of this trek
  • In case of cancellation by us, the complete amount will be refunded 

#Page-Summary

Who should do this trek

  • Beginners for the trek – Hampta Pass is an easy to moderate trek and beginners can do it too 
  • Experienced trekkers – If you are a trekking enthusiast and looking for a trek with a mix of all the benefits of treks
  • Nature and peace lovers – If you want to experience the places which you have seen only in documentaries or movies like Into the wilds
  • Self healer – If you want to test your stamina and endurance (Trekking is not about the strength or weight of a person, it is about the willpower and stamina of a person) At the end of this trek, you will start loving yourself much more than before
  • Photographers – If the beauty of nature allures you and wake up the photographer inside you, this is the best suitable trek for you
  • Book Readers – Imagine yourself sitting on a huge rock, the wind is gushing through your hair, the only sound you hear is a 
  • Star Gazers – Far away from light pollution, sleeping under the sky filled with as many stars as droplets in a thundering river, an arch of storms, stars and dreams pausing over your head to showcase you the most beautiful thing in the world -GALAXY

#Page-Summary

Things to carry

Trek Gears :

  • Trekking bag of 40 to 60 Ltr with rain cover
  • A handy sling bag 
  • Trekking Shoes with good grips 
  • Floaters / light weight slippers
  • Trekking Pole
  • Tennis Cap
  • Poncho
  • Sunglasses with UV protection
  • Bluetooth earplugs (speakers are not allowed)
  • Powerbank

Clothes :

  • Full Sleeve T-shirts (preferably dry fit & collared) – 3
  • Trekking Pants – 2 
  • Light weight sweater – 1
  • Fleece jacket – 1
  • Socks – 2 pairs of cotton, 1 pair of woolen
  • Hand Towel – 1 
  • Puffer Jacket (down jacket) – 1
  • Gloves – 1 pair (lightweight)
  • Underwear – 3 (at-least)
  • Woollen Cap (for night)

Personal Care Items :

  • Toiletry Kit
  • Moisturiser
  • Sunscreen (Sunlight on mountains is strong and tend to cause sunburn)
  • Toilet paper roll
  • Paper napkins

Emergency Medicines :

  1. Diamox: For mountain sickness   
  2. Combiflam: It is a pain reliever for your muscles at the day end
  3. Avomine: For motion sickness. Pop one, a half hour before you start your road journey.
  4. Digene: Elevation often cause indigestion and gastric
  5. ORS: This should be your must-have on every trip
  6. Knee Brace: Backup for knee pain
  7. Moov/Volini
  8. Hot Bandage

#Page-Summary

Covid-19 Protocol

Your health is our priority. The guidelines below are to ensure your safety. Oxygen levels decrease at height and your situation may deteriorate far rapidly than in plains. There won’t be any phone signal or medical help during the trek. Please follow these guidelines to keep yourself safe

  • As per current guidelines of Himachal government, RT-PCR report or e-pass is not mandatory to visit Himachal but if guidelines change, one needs to adhere to that
  • Patient with fever or cold is not allowed for the trek
  • RT-PCR Negative Certificate: You are exempted only if you’ve had two doses of vaccine or were infected with COVID-19 in the last three months (proof needed)

#Page-Summary

Why Trek with the HimalayanDrives Team

Support Locals – Team members are local resident of Bhanara village (a traditional village of Kullu) who are directly paid through this trek. We don’t organise treks for profit making but to support villagers and to induce closeness among outsiders and Himachal people

We believe in small group – Mostly trek groups are huge and have a group of 25-30 people + staff. We believe that if you are trekking, you want to stay away from crowd, so why trek with crowd?

Trained guide – In the wilderness, your guide is your only hope and your hope should be strong and reliable. Our guides are experienced, trained and certified

Real experience of Himalayas – Do not just visit, roam around and click pictures during your mountain trips. Learn, experience and increase your knowledge about mountains. It will help you in future treks too.

Same minded people on the trek – The group is selected carefully and we ensure that only nature and peace-loving people join this trek

#Page-Summary

Trek Manager

Dheeraj Jha – He has been exploring the Himalayas for the last 4 years and has trekked to several moderate and difficult treks in Himachal/Uttrakhand. Hampta pass, Manimahesh trek, Shreekhand Mahadev, Brahmtal are a few of those. Himalayas is his muse and he spends most of his time exploring nature and trek routes.

Trek Leader & Trek Guide

Tharban Thakur – A core pahaadi by nature and born skills of a trekker, he holds a certified degree in mountaineering too. He has worked with leading trek companies in India. With an experience of 10 years, he has handled several group treks of more than 50 people at a time and completed many expeditions in the Himalayas. Whether they are kids, old age, first-time trekkers or foreigners, he knows how to help his group achieve their targets even in adverse conditions. Tharban has done the Hampta Pass Trek more than 25 times and knows every stream and crossing of Hampta Pass Trek by heart.

For more details, follow Instagram stories of himalayandrives & lostinwoodscamp

For Booking

Dial / Whatsapp:

9873993129 Dheeraj Jha

9816825092 Tharban Thakur

Instagram:

@Himalayandrives

Email:

dheeraj.jha@himalayandrive.com

dheeraj.jha148@gmail.com

Let’s explore paradise together!

#Page-Summary

Featured

Lost in Woods Camp

Page Summary

1. About the camp


Millions of beautiful places in India & you are still staring at the four walls of your room?

Do you love snow but the only icy thing that you can touch lies in your freezer?

Do you love twinkling stars more than club lights?

Do you want to celebrate the beginning of the year 2022 but not with loud music in a crowded place?

Do you want to travel to the mountains but feel that Manali, Kasol, Bir, Shimla are as overcrowded as your city?

Do crowded hotels & tourist places are robbing you of the feelings of being in the lap of nature?

Then  LOST IN WOODS camp is for you!

People who reach out to mountains for peace and being closer to nature want to travel to parts of the Himalayas still untouched by general tourists and experience the culture of Himachali hamlets. Such villages are hard to reach and usually don’t have places to stay. It resulted in the idea of creating a nature camp for people like you in a shepherd village of Kullu Manali called Bhanara Village. This village is small in size but rich in culture, traditions and natural beauty. 

This camp will help you experience the adventure of trekking and camping but with the comfort of some basic needs (bedding, proper toilets, the warmth of blankets & the happiness of a pillow. 

The idea behind this camp is an attempt to create a new community of responsible travellers.

Page-Summary

Page-Summary

2. Who should Join

Before you make up your mind, I would like to tell you that this camp is only for:

  • Who travel due to their love for nature which is missing in cities
  • Who travel not just to explore places but the culture too
  • Who prefer to travel solo and meet strangers with the same interests & mindsets
  • Who craves peace and silence  
  • Who choose wild nature more than the comforts and luxuries of 5 star hotels
  • Who love to read books and listen to stories of old people
  • Who will choose a forest to get high rather than a crowded club
  • Who feel music is recreational and calming not a mean to party and make noise
  • Who travel to experience the never before seen landscapes and admire the beauty of mountains
  • Who want to explore places that are hidden from mainstream tourists
  • Who want to start their morning with a book and a cup of tea

In a nutshell, those who are looking for peace with happy and positive vibes.

Page-Summary

3. About the location

The location of our camp is a small village between Naggar and Manali. The village name is BHANARA and it is a preserved village as outsiders can’t cross the barrier on approach road without permission/invitation. It is located only 17km from Manali but far from the modernisation of Manali.

The old but colourful wooden houses here will give you the feeling of Malana village, while the sheep & Himalayan horses strolling in village will give you the feeling of being in the meadows of Dhauladhar mountain range.

The campsite is an apple orchard on a cliff edge leading to a valley overlooking Kullu Manali & Beas River. You will find fewer humans and more birds here. What else? Well, visit and tell me in your own words.

Travel Options :

Kullu Airport – 2 hours drive from Bhanara Village

Chandigarh Airport/Railway station – 7 hours drive or 9 hours Volvo journey from Bhanara Village

Delhi Airport/Railway station : 12 hours drive or 14 hours Volvo journey from Bhanara Village

Bhanara is an old village of Gaddis (shepherds)
The campsite has a view over the valley of Kullu & Manali

Page-Summary

4. About the trek

  • It is a beginners level trek where we will pass through the pine forest and touch the starting point of glacier
  • Uphill – 2hours
  • Downhill – 1 hour
  • End Point – Snow line
  • Peaks visible from View Point
    • Hanuman Tibba
    • CV14 Peak
    • 51 Peak
    • 52 Peak
    • Makarvey Peak
Popular peaks visible during trek
Meadows during trek

Hiking Route
Leave only your step marks & memories behind

At the end of trek, you will experience this
Trek is not only about adventure but fun too

Page-Summary

5. Amenities

Car Parking – Yes

Toilets – 2 ( 1English & 1 Indian each) + 1 camp toilet

Shower – Yes

Hot water – For face wash & refreshment ( for shower, depends on your daring & availability)

Luggage Room – Yes

Medical facility – Doctor on call available (chargeable)

Bedding – 3″ thick mattress with warm bed sheet

Pillow – Inflatable pillows for each one

Sleeping Bag – Sleeping bags with washed & clean inners for each one ( blankets available if needed)

Sleeping bag which turns into quilt

Page-Summary

6. Itinerary

  • Check in time : 12 PM
  • Check out time : 11 AM
  • Pickup & drop will be arranged from Manali bus stand on advance request
Itinerary : 3 DaysItinerary : 4 Days
Day 1Day 1
Welcome DrinkWelcome Drink
LunchLunch
Nag Temple VisitNag Temple Visit
BonfireBonfire
Drinks & Music (mild)Drinks & Music (mild)
Kullu-Manali Folk danceKullu-Manali Folk dance
Dinner – Veg/Non VegDinner – Veg/Non Veg
  
Day 2Day 2
BreakfastBreakfast
Hiking till snow pointHiking till snow point
LunchLunch
Rest Rest 
Evening SnacksEvening Snacks
BonfireBonfire
Story Telling / Get TogetherStory Telling / Get Together
Dinner – VegDinner – Veg
  
Day 3Day 3
BreakfastBreakfast
Group photo at RiverGroup photo at River
DepartureVisit to Rohtang view point
OR sight seeing
 Lunch
Sunset Point visit
Bonfire
Dinner – Veg/Non Veg
 
Day 4
Breakfast
Departure
 

The itinerary is subject to change depending on weather conditions

If you are a musician, bring your instrument, we would love to listen to your music under the starry sky

7. Dates

New Years Nature Camp

  • A customised camp can be organised for your preferred dates if you are in a group of minimum 5 people

This camp is decorated with love, colours & care

Page summary

8. Package details

Category 1 : Bridge Tents ⛺️ ( Triple Sharing )

These are double layered tents which stays warm and each tent has thick mattress and pillow combined with blankets & sleeping bags

  • 3 Days/ 2 Nights : 6,000 INR per person
  • 4 Days/ 3 Nights : 8,000 INR per person

Category 2 : Wooden Room (Triple Sharing)

Rooms will have a king size bed and space for 1 extra mattress accompanied by a pair of double blanket and quilt

  • 3 Days/ 2 Nights : 8,000 INR per person
  • 4 Days/ 3 Nights : 10,000 INR per person

Category 3 : Couple Tents (for 2 people )

These are double layered tents which stays warm and each tent has thick mattress and pillow combined with blankets & sleeping bags

  • 3 Days/ 2 Nights : 10,000 INR per couple
  • 4 Days/ 3 Nights : 12,000 INR per couple

These are introductory prices. Will be revised in December.

** Discounts for group bookings available **

The package includes :

  • Accommodation
  • Winter protection for camping (excluding clothing)
  • 3-times meals, evening snacks & Tea/coffee in between
  • BonFire + Music
  • Folk Dance – Himachali Naati
  • Village walk + local heritage temple visit
  • Trek by professional guide
  • Transportation for waterfall / Sight Seeing depending on number of people ( 4Days package)

Note :

  • For booking, deposit 50% advance and rest on arrival at camp
  • Transportation from Delhi/Chandigarh can be arranged (on extra charges)
  • The addition of a day in this package or dates other than specified camping dates will be 1500 INR per day per person in all types of accommodation
View during hiking
Half Frozen river near Bhanara village

Page-Summary

9.Things to Carry

  • Small bag pack / sling bag
  • Non breathing Shoes with good grip (Snow/Gum boots if you want to play with snow)
  • Floaters
  • Woolen Socks (at least 2 pairs – you can buy handmade socks from village too)
  • Towels (Let’s not share these in the times of Covid19)
  • Thermals (both upper & lower)
  • Full Sleeve T-shirts (preferably dry fit)
  • Fleece
  • Jacket
  • Gloves
  • Woolen Cap
  • Sunglasses (See good + Look good)
  • Bluetooth earplugs if you love music while hiking ( though birds sing better than any human singer )
  • Torch
  • Toiletries Kit
  • Moisturizer
  • Sunscreen (Sunlight on mountains is strong and tend to cause sunburn)
  • Tissue Papers
  • Water Bottle (preferably thermos to keep water warm)
  • Camera (You would like to click a picture at every step during your trek)
  • Old Monk 😁
  • Note:
    • The key to fight the winter air and cold weather is layering. Instead of 1 jacket of 0 degree, wear 3 layers of clothes – Thermals, T-shirt (better if with collars), & Jacket
    • There is no shop in this village, not even grocery store (nearest shop is 30 mins away)
    • Gum boots can be arranged on extra charges if requested a week prior to camp dates

Page Summary

10.Things not to Carry

  • Food – Once you have checked in, your tummy is the responsibility of our Himalayan chef who cooks to make others high on food
  • One time use plastic – Please don’t carry any disposable plastic, not even chips packet. Help us to keep environment plastic free
  • Stress and worries – Leave them behind in cities and start the new year afresh with positive vibes and happy thoughts
Fresh Healthy food with the touch of local culture

Page-Summary

11. COVID-19 protections

The scariest thing about travelling these days is mingling with crowds. If you too have this fear, rest assured, you will not have it at this camp

  • The staff will follow all covid protocols
  • There will be ample space between the tents to keep travelers separate from each other (physical contact) yet they can enjoy the open view together
  • The zero-contact check-in & check-out will be observed
  • The open area around the camp and the village will allow you to stay in your self-quarantine but under the blue sky

Page Summary

Places to explore around

(Not included in package)

Adventure Activity (Not included in the package but can be arranged on demand) : Paragliding over the snow-covered Himalayas in Kullu Manali will not just make your adrenalin run like a horse but also fill your eyes with amazement.

  • Preventive medicines (If you are new to mountains)
  1. Diamox: For mountain sickness    
  2. Combi flam (5 tablets): It is a pain reliever. It also contains paracetamol. 
  3. Avomine: For motion sickness. Pop one half hour before you start your road journey.
  4. Digene: To tackle digestive problems which may occur due to height difference
  5. ORS: In case you have loose motion
  6. Knee Brace: If you are prone to knee injury or have known issues of knee pain
  7. Moov/Volini

Note:

  • All medical ailments should be declared before the trip
  • Any kind of food allergies should be notified beforehand

For more details, follow Instagram stories of himalayandrives & lostinwoodscamp

For booking, contact :

Dheeraj Jha – 9873993129

Tharwan Thakur – 9816825092

Instagram :

@Himalayandrives

@Lostinwoodscamp

Email id : dheeraj.jha148@gmail.com

Page-Summary

Know Your Organisers

Host

Amma – She may be double your age yet when it comes to hard work, she is as young as a 21-year-old. The recipe of traditional food served to you will undergo her inspection and the apple orchard you will stroll in is developed by her quarter a year ago.

Trek Leader

Thakur Bhai – This man will be the ‘Hanuman’ during your stay – solution for everything whether it is difficulty in the trek, need more wood for campfire or craving for hot chocolate after dinner, he has a solution for everything. With a certified degree in hiking, he has worked with leading trek companies in India and knows almost all the trek routes in upper Himalayas. He has experience of 10 years in handling group trek of more than 50 people at a time, whether they are kids, old age or foreigners.

Curator

Dheeraj Jha – I planned to spend few months in the Himalayas and explore hidden meadows but the mountain valley had only one-way passage and I decided not to return to Delhi. This camp is my attempt to bring all nature lovers together!

एक ऐसा गुलिस्ताँ बनायेंगे,
जहाँ पंछियों संग सुस्तायेंगे,
होंगी ना शहरों की चकाचौंध,
बस ज़रूरत का सामान सजायेंगे,
तकनीक से ना होगा कोई वास्ता,
किताबें ही होंगी विलासिता,
झूमेंगे हम पेड़ों के संग संग
और हवा के संग गुनगुनाएँगे,
एक ऐसा गुलिस्ताँ बनायेंगे।

Let’s meet and create a world of dreams.

तुम सच हो या कल्पना

तुम!
तुम सच हो या कल्पना?
ना कभी दिखाई देती हो,
ना कभी सुनाई,
मगर महसूस हर पल होती हो,

फिर चाहे शहर का शोर हो,
या पहाड़ की चोटी की खामोशी,
दौड़ता भागता जीवन का सफ़र हो,
या सुकून का ठहरा हुआ पल,
मैंने हर क्षण में तुम्हें अपने इर्द गिर्द पाया है,
मेरे कंधों पर सिर टिकाए,
कानों तले मेरी गलई को तुमने,
अपनी धीमी गर्म साँसों से सहलाया है,
तुम!
तुम सच हो या कल्पना?

वादियों में गूंजती हो,
मगर आवाज़ पहचान में नहीं आती,
हर रात सपनों में आती हो,
मगर चेहरा नहीं दिखाती,
कभी बादलों में झलकती हो,
तो कभी बूँदों में खनकती,
तुम!
तुम सच हो या कल्पना?

अंधेरी रातों में,
चाँद बन जाती हो,
सर्द सुबहों में,
गर्म चाय सी लबों को छू जाती हो,
लम्बे सफ़र की दुपहरी में,
पेड़ की छाओं सी मिल जाती हो,
जो ढलने लगे ख़यालों का सूरज,
तो रंगो सी फैल जाती हो,
तुम!
तुम सच हो या कल्पना?

जो मैं बन जाऊँ देवदार,
तो किसी बेल सी लिपट जाती हो,
मन के सूखे मरुस्थल में,
नदी की नमी सी उतर आती हो,
जो हो मन उमड़ते घुमड़ते बादलों सा बेचैन,
तो झील सी सुकून बन जाती हो,
तुम!
तुम सच हो या कल्पना?

युँ तो,

मैंने तुम्हें और तुमने मुझे छुआ है
मैंने तुम्हें और तुमने मुझे चूमा है,
अपने अकेलेपन में,
कई बार तुम्हें जिया है
यादों में दूर – दूर तक फैली हो
मगर धुंधली सी हो तुम
हमेशा मेरे क़रीब हो,
मगर मेरे संग नहीं हो तुम!
तुम!
तुम सच हो या कल्पना?

ख़ामोश निगाहें

क्या तुमने कभी किसी को

बिना हाथ बढ़ाए छुआ है?

अपनी पुतलियों से उसे सराहा है?

अपनी निगाहों से उसे चूमा है?

क्या तुमने कभी,

किसी की झपकती पलकों,

उसके हिलते लबों,

उसके चेहरे के तिल में,

खुद को खोया है?

क्या तुमने कभी,

किसी के क़रीब बैठ कर,

उसे अपने क़रीब बैठे,

दूर से देखा है?

उस क्षण को सदियों तक जिया है?

वक्त को थम जाते देखा है?

क्या तुमने कभी किसी के –

” ऐसे क्या देख रहे हो? “

के जवाब में झेंपते हुए,

अपने शरीर में वापस लौट कर,

“कुछ नहीं! कुछ भी तो नहीं” कहा है?

क्या तुमने कभी ऐसा इश्क़ किया है?

क्या कल्पना क्या सच ?

धरती के चारों ओर पसरा नीला आसमान,

रात ढलते ही विलुप्त कैसे हो जाता है?

वो जो जीवन का सबसे बड़ा सच है 

वो अंधेरे में कहीं खो कैसे जाता है? 

क्या आसमान सच है या केवल कल्पना?

सच तो यह है कि आसमान कल्पना है,

कोरी कल्पना।

सूरज के प्रकाश में कई रंग हैं,

लाल, पीला, हरा, नीला,

वो जिसे हम आसमान कहते हैं,

वो तो केवल प्रकाश का एक खंडित अंश है,

नीला रंग,

अगर आसमान कल्पना है 

तो सच क्या है?

सच है बादल, 

किंतु आसमान तो सतत है,

और बादल विरल,

अर्थात् आसमान तो सदा से दिखता रहा है,

मगर बादल तो गाहे बगाहे ही नज़र आते हैं,

तो फिर आसमान कल्पना और बादल सच कैसे?

क्या सच वही है, जो दिखता है?

जो दिखता नहीं, वह सच नहीं?

जो सदा के लिये नहीं, क्या वो सच नहीं?

जो लोग हमारे जीवन में आकार चले गए,

वो भी तो सतत नहीं,

क्या वे सभी काल्पनिक हैं?

और उनकी यादें जो सतत हैं? 

क्या वो सच है?

या यादें भी केवल कल्पना हैं?

अगर तुम्हारी याद भी कल्पना है,

तो तुम क्या हो?

मेरा सच या मेरी कल्पना?

अगर आसमान कल्पना है

और बादल सच,

तो तुम एक कल्पना हो, 

और तुम्हारी यादें सच। 

FAQs about the Pindle App

Questions

  1. What is the Pindle app?
  2. How does the Pindle app work?
  3. What can we do on the pindle app?
  4. What are the key features of the Pindle app?
  5. How is Pindle different from other social media apps?
  6. Does hashtag search work on the Pindle app?
  7. How to post pictures on Pindle & what is the supported ratio of pictures?
  8. How can one explore new users on the Pindle app?
  9. How can Pindle help you?
  10. How to become an Ambassador?
  11. What are the benefits of being an ambassador?
  12. What are the steps and criteria to grow on Pindle?
  13. Why did my post fail?
  14. Why am I not able to post at some particular locations & what’s the solution?
  15. Why doesn’t Pindle support all android devices?
  16. Do I still own the rights to my pictures after uploading?
  17. How to share the link to my profile with others?
  18. How to earn gems?

What is the Pindle app?

Pindle is a social media app for travellers & photographers that lets you pin your pictures on the Pindle map. Simply put, you can understand it as a combination of Google Maps & Instagram.

Back to Top

How does the Pindle app work?

Pindle works on a technology called Geotagging. The app reads the GPS location from your picture while uploading if the location service for the camera was on while taking pictures. If not, you can select the location of the picture by searching the name of the place in the search bar on the map.

Back to Top

What can we do on the pindle app?

  • Share pictures with others
  • Explore new places to travel
  • Chat with people around you and other cities
  • Meet like-minded people
  • Meet people who want to travel with us
  • Meet local guides to explore hidden places
  • Access and provide Couch Surfing

Back to Top

What are the key features of the Pindle app?

  • Chat with people around you
  • Meet locals and travel together
  • Meet like-minded people and share a coffee

Back to Top

How is Pindle different from other social media apps?

  • Information about locations/pictures based on the exact location on Map
  • Creators can earn from the beginning
  • One can start monetising from the app within a few weeks

Back to Top

Does hashtag search work on the Pindle app?

No, Pindle doesn’t use hashtag exploration but you can use hashtags. If someone searches for a hashtag, it shows the results of the same hashtag only in a limited area.

Back to Top

How to post pictures on Pindle & what is the supported ratio of pictures?

  • Tap on the camera icon,
  • Open the picture gallery of your phone,
  • Select the picture to be uploaded
  • Select free transform and set your desired frame size
  • Select the location of the picture on the map
  • Select the category of the picture
  • Give a title to your picture
  • Write about the picture/place in the description box
  • POST

Back to Top

How can one explore new users on the Pindle app?

On the explore page, tap on the “All Posts” tab and the app will show you the recent posts done all over the world as well as show you the list of recently active users

Back to Top

How can Pindle help you?

  • If you are a budding photographer, Pindle will help you to nurture your talent with guidance and provide you with photography accessories
  • If you are a traveller, Pindle will help you to plan trips on budget and also earn with your posts about the places that you have travelled to
  • If you are a digital nomad, Pindle helps you to earn by joining the Pindle team as a paid influencer

Back to Top

How to become an Ambassador?

  • Pin good and accurate content on the Pindle map
  • Engage with other community members
  • Help the Pindle app to grow in your country
  • Apply for the ambassador level at the end of the month
  • The content team evaluate your feed and upgrades you to ambassador level if they feel that you are deserving

Back to Top

What are the benefits of being an ambassador?

  • Become part of the global community leadership team
  • Earn extra gems with good content
  • Direct interaction with the core Pindle team
  • Exclusive contests for ambassadors
  • Several other ways to earn Gems

Back to Top

What are the steps and criteria to grow on Pindle?

  • Good content
  • Accurate locations of the picture
  • Informative posts
  • Supporting other community members

Back to Top

Why did my post fail?

There may be 2 reasons :

  1. Your device doesn’t support the Pindle app
  2. The location you are trying to pin is out of the permission area in the Pindle map

Back to Top

Why am I not able to post at some particular locations & what’s the solution?

There are certain border areas that don’t support the pinning pictures on the Pindle map like – Ladakh, Kashmir, some parts of Arunachal, Nagaland.

SOLUTION

  1. Post your picture by selecting the neighbouring state/area where pinning is allowed
  2. After posting, go to edit a post and move the pin to the accurate location and post again (THIS WORKS FOR ONLY ANDROID DEVICES)

Back to Top

Why doesn’t Pindle support all android devices?

The Pindle app works on a new feature called GPS tagging. Since this is not a common feature for the apps, some android devices don’t support this function. WHY? Though android is a common OS, device makers tune it further as per device to make it unique. This is the reason that the Pindle app functions slow and lags in some android devices (the process to simulate with such devices is underway and we will soon resolve this issue).

SOLUTION

  1. Use the Pindle app using a VPN
  2. Use the Pindle app using the android simulator on your laptop (eg. Bluestacks)

Back to Top

Do I still own the rights to my pictures after uploading?

Yes. You reserve your rights for your pictures. Pindle is only a platform to showcase your work to others. You can use your trademark on your pictures.

Back to Top

How to share the link to my profile with others?

You can’t create the link to your profile but you can create and share a link to your post with your friends. Tap on the 3 dots above your post (..), and various options will appear. One of those is – “Share”

Tap on Share and copy the link or send it directly to your friends on other social media apps.

n there are 4 other ways to earn gems

Back to Top

How to earn gems?

General users on the Pindle app can earn gems through these:

  • When another Pindle user likes your post and donates gems to support/encourage more good content
  • When the Pindle team like your posts and donate gems to your post
  • When your post is selected in the guidebook (check the guidebook section of your country on the search page – lens icon)

Another fast way to earn gems is become a Pindle ambassador. The ambassadors get several other ways to earn gems (which will be revealed to you during the ambassador meeting). Post good content on the Pindle app and share it with your friends/family to become a Pindle ambassador. The content team will evaluate your activities and contact you once they find you suitable for ambassador.

To know the features of the app – search #Pindleappdemo on Instagram and check reels by Pindle ambassadors.

If you have any other questions regarding the Pindle app, write them in the comments and I will answer them ASAP

रविवार की सुबह

आह! कितनी अच्छी सुबह है ये। एक शांत सुबह। रविवार की सुबह। ना सड़क से मोटर बाइक की घूँ घूँ ना दौड़ते भागते पड़ोसियों के कदमों की टप टप। बस खामोशी में, गुलमोहर की टहनियों पर गुनगुनाती सी हवा और उसके संग चहकती ये छोटी चिड़िया। इसे कैसे पता चलता है कि आज रविवार की सुबह है? या शायद यह बोलती तो रोज़ाना होगी मगर सुनाई सिर्फ़ रविवार की ख़ामोश सुबह को ही देती है।

रविवार सबको पसंद होता है। रेलगाड़ी सी निरंतर चलती ज़िंदगी का एक छोटा सा स्टेशन, कुछ देर ठहरो, आलस की खिड़की से झाँक कर एक नज़र बीते हुए स्टेशनों पर नज़र डालो और लम्बी सी अंगड़ाई के साथ हफ़्ते भर की थकान मिटा लो। ना दफ़्तर की दौड़ ना कमाने की होड़। सुस्ताते हुए बिस्तर पर ही पूरा दिन काट लो। छुट्टी का भी अलग ही मज़ा होता होगा ना? होगा! हाँ, मेरे लिये तो अब ये सब काल्पनिक सा ही है। पुरानी यादें अक्सर पिछले जन्म की बातों जैसी लगती है, कल्पना से भरी। एक सुखदाई कल्पना। मैं अब ज़िंदगी के इस छोटे से सुख का लुत्फ़ तो नहीं उठा सकती मगर इसकी कल्पना को तो जी ही सकती हूँ। 

ख़ैर, मेरे लिये तो अब हर दिन बराबर है, क्या सोमवार और क्या रविवार। आख़िर मैं एक ग्रहणी जो ठहरी। लोगों के अनुसार मेरा हर दिन रविवार है और असल ज़िंदगी में हर दिन सोमवार। मेरी मेहनत का मेहनताना बैंक के खाते में नहीं आता इसलिए उसका कोई मोल आंका नहीं जाता। मेरा श्रम तो बाल श्रम में भी नहीं आता तो अतःव इसे ग़लत भी नहीं माना जाता। 

उफ़्फ़ मैं भी सुबह सुबह किन फ़ालतू की सोच में पड़ गई। यह दिमाग़ भी ना! हर वक्त परिस्थितियों को तौलने और बीते वक्त में विचरण करने में लगा रहता है। रविवार चाहे छुट्टी दे ना दे, रविवार की सुबह तो दे ही जाता है। मेरी सुबह। एक फ़ुरसत भरी सुबह। ना खाने की मेज़ से मक्खन के लिए मुझे पराठा पुकारता है ना गीला बाथरूम, तौलिया प्लीज़ चिल्लाता है। ना हर दिन मेज़ पर उसी जगह रखा बटुआ खोता है, ना टिफ़िन का डिब्बा मेरी झुँझलाहट समेटता है। वह सुबह जब मैं किसी की माँ, बीवी, बहू या भाभी नहीं होती, बल्कि कुसुम होती हूँ। सिर्फ़ कुसुम। वो सुबह जब मेरा नाम अपना अस्तित्व फिर से पा जाता है।

इससे पहले कि बाक़ी लोग उठे और फ़रमाइशों का दौर एक बार फिर शुरू हो, एक कप अपनी वाली चाय बना लेती हूँ। मिश्री चाय। कितनी पसंद थी ना बचपन से मुझे ये। माँ कहती थी मैं चाय में शक्कर डालती हूँ या शक्कर में चाय। हाहाहा माँ भी ना! खुद ही कहती थीं की मैं बिल्कुल उनके जैसी हूँ और फिर खुद ही इन चीजों पर टोकती भी रहती थीं। पर माँ के टोकने का असर मुझपर कभी ना पड़ा। उम्र के साथ शक्कर बढ़ती गई और मेरा मिश्री चाय का प्यार भी। लेकिन एक दिन अपनी बाक़ी की छोटी छोटी ख़ुशियों के साथ मुझे इस चाय को भी त्याग देना पड़ा। कई बार लोगों का एक बार टोकना ही हमारी वर्षों पुरानी आदत को बदल देता है। प्रतीक का मेरे चेहरे और कमर के भारिपन पर टोकना कुछ ऐसा ही था। जिसने मीठे के प्रती मेरे लगाव को एक झटके में ख़त्म कर दिया। अब मिश्री चाय मेरी एक ऐसी सहेली बन कर रह गई है, जिससे मैं चोरी छिपे रविवार की सुबह मिल लिया करती हूँ अपनी तीसरी मन पसंद सहेली आइने के साथ। 

वाह! क्या ख़ुशबू है। ना जाने क्यूँ आइने के सामने बैठ कर चाय का स्वाद बढ़ जाता है। पत्ति, लौंग, इलायची और अदरक तो सब बराबर ही डलता है फिर ये अलग स्वाद कहाँ से आता है? क्या ये शक्कर का स्वाद है? या आइने का? या शायद ये रविवार की सुबह का स्वाद है। हाँ वही है शायद। रविवार को ही आता है चाय में यह स्वाद। ओह शायद ये फ़ुरसत का स्वाद होगा। आज से मैं अपनी चाय को मिश्री चाय नहीं फ़ुरसत चाय कहा करूँगी। हाँ! यही मुनासिब नाम है इसका।

(आइने से यह कहते हुए कुसुम ने अपनी गोल, करौंदिया बिंदी को उसकी जगह पर दुरुस्त किया और चिड़िया के संग गुनगुनाने लगी)

समाप्त 

बादल और नदी का प्रेम

पाठ १  

ऊँचे आसमान में उड़ते एक मदमस्त बादल की नज़र अचानक ही भूतल पर विचरण करती एक शांत नदी पर पड़ती है। बादल यह देखकर अच्म्भित रह जाता है कि नदी में  उसे अपना प्रतिबिम्ब नज़र आ रहा है। वर्षों से यात्रा करते इस बादल ने कभी खुद को इतने स्पष्ट तौर पर नहीं देखा था। उसने तो धरातल पर केवल अपनी परछाई ही पाई थी। कभी ऊँचे पहाड़ों पर तो कभी घास के सपाट मैदान में, कभी जल से भरे सागर की सतह पर तो कभी सूखे मरुस्थल में। अपनी इस लम्बी यात्रा में बादल ने कई पड़ाव तय किये और हर स्थान से एक परछाई सा गुजरता चला गया था। ना जाने कितनो ने उसकी इस परछाई को पकड़ बादल को थामना चाहा था किंतु बादल तो एक उन्मुक्त उड़ान का हो चुका था और इस उन्मुक्त्तता की मदहोशी में निरंतर उड़ता ही चला जा रहा था। ना उसका कोई तय रास्ता था ना किसी से कोई वास्ता। उसकी परछाई तो उसके अक्स का एक हिस्सा मात्र थी तो उस परछाई को छू कैसे कोई उसे जान सकता था, कोई कैसे उसे थाम सकता था?

मगर आज यह कौन नज़र आया जिसमें बादल ने अपनी एक स्पष्ट झलक पाई थी? उत्सुकता से भरे बादल ने कुछ देर ठहर जल की इस धारा में खुद को निहारने की ठानी। वह वहीं मंडराने लगा।

नीचे बहती नदी को अकस्मात् ही अपने पारदर्शी मन में कोई हलचल प्रतीत हुई। उसे ऐसा महसूस हुआ जैसे किसी ने उसे छुआ हो। नदी ने इधर उधर नज़र दौड़ाई मगर अपने आस पास किसी को ना पाया। दो आयामों (dimension) को माप नदी ने तीसरे आयाम की ओर देखा तो एक बादल को खुद में झांकते पाया।

बादल अपने ही ख़्यालों में खोया इस बात से अनभिज्ञ था कि नदी अब उसकी ओर ताक रही थी। नदी का मन हुआ की आवाज़ लगा कर बादल से पूछे – ऐ आवारा क्या टुकुर टुकुर ताक रहा है मेरी ओर? पहले कभी कोई नदी नहीं देखी क्या? मगर वह कुछ कह ना सकी, यूँ तो उसने कई बादल देखे थे किंतु यह बादल कुछ अलग सा प्रतीत हुआ। नदी को ऐसा प्रतीत हुआ जैसे बादल कुछ उस सा ही है। आकार में छोटा मगर भीतर एक संसार छिपाए हुए। कई बरस बीत गए थे उसे एक लम्बी यात्रा पर निकले हुए किंतु अब तक किसी को खुद सा ना पाया था। अपने अस्तित्व की पहचान की तलाश में पहाड़ की चोटी से उतरी नदी कई पहाड़ों, घाटियों और मैदानों का सफ़र तय कर चुकी थी। वह जहां भी जाती खुद को एक नये रूप में ही पाती। अपनी इस निरंतर यात्रा में नदी कभी झरने के रूप में ऊँचे पर्वतों से उफनती हुई बहती तो कभी किसी ऊँचे घास के मैदान में पहुँच एक शांत झील का रूप ले लेती। कभी तंग घाटियों में एक मामूली सी जल की धारा बन सिमट जाती तो कभी मैदानी पठार पर पहुँच विशाल रूप ले लेती। वह खुद तय नहीं कर पा रही थी कि उसका वास्तविक स्वरूप कौन सा है, उसकी पहचान क्या है? दुनिया उसे बस यही कहती रहती कि उसके जीवन का उद्देश्य सागर तक पहुँचना है। जब वह अपने सफ़र पर निकली, तब यही सोच कर निकली थी कि  जल्द से जल्द सागर से मिलना है और अपने जीवन के उद्देश्य को पूरा करना है। मगर पृथ्वी की सुंदरता और यात्रा की ख़ूबसूरती को देख उसने तय किया कि वह सागर से मिलने से पहले कुछ और वक्त लगायेगी इस संसार को देखने, परखने और समझने में। पिता स्वरूप पहाड़ के बताए मक़सद और मार्ग को छोड़ वह निकल पड़ी पृथ्वी पर कुछ दिनो का विचरण करने, यात्रा की ख़ूबसूरती को थोड़ा और महसूस करने। मार्ग में उसे कुछ दूसरी नदियाँ भी दि खाई पड़ीं, जो पहले ही सागर से जा मिली थीं। 

अल्हड़, चंचल और मदमस्त बहती इस नदी को देख उन परिपक्व नदियों ने उसे टोका और नए रास्तों की ओर बढ़ने का कारण जानना चाहा। किसी ने उसे अपने मार्ग पर लौट जाने को कहा तो किसी ने उसे अनजाने रास्तों का भय दिखाया। एक नदी ने तो यह तक बतलाया कि  वह भी उसी की तरह निकल पड़ी थी नए रास्ते तलाशने मगर अनजान रास्ते इतने कठिन और अनिश्चितताओं से भरे थे कि अंत में थक हार कर उसे लौट ही जाना पड़ा, अपने नियत रास्ते पर। मगर इस नदी ने हार ना मानी, उन्मुक्त सफ़र के सुख के आगे रास्तों की कठिनाइयाँ उसके लिये कुछ ना थीं। वह इठलाती, लहराती, मचलती खिलखिलाती बढ़ती रही। एक दिन एक जीर्ण शीर्ण, थकी हारी, ख़ामोश सी नदी से बात चीत के दौरान, इस उन्मुक्त नदी ने जाना कि एक नदी जब सागर से मिलती है तो सागर में समा जाती है। समुंदर ने अपने वजूद को इतना विशाल बना लिया है कि वह नदियों को अपने आगे कुछ नहीं समझता। समुंदर से मिलकर नदी अपने अस्तित्व को पाती नहीं बल्कि अपने अस्तित्व को खो बैठती है। यह सुनते ही नदी सन्न रह गई। उसकी उम्मीदों और कामनाओं का संसार एक पल में धराशाई हो गया। उसे लगा जैसे उसके जीने का उद्देश्य और उसकी अब तक की यात्रा एक झूठ की बुनियाद पर टिकी थी। तेज गति से धरती को मापती नदी एक झटके में ठहर गई। वक्त बीत रहा था और नदी आगे बढ़ने के बजाय वहीं ठहर थोड़ा फैलने लगी। उसने आगे बढ़ना का इराद त्याग दिया। कलकल करती, निरंतर बहती जल की धारा अब उद्देश्यहीन और गुमसुम तालाब सी थम चुकी थी। चंचल, अल्हड़, मनमौजी सी किशोर नदी एक झटके में प्रौढ़ सी दिखने लगी। मित्र पंछी, उसकी गोद में खेलते पौधे, उसकी सखी मछलियाँ और उसके नातेदार जानवर यह मानने लगे थे कि यह नदी का आख़िरी पड़ाव है। खुद में खोई सी, शांत हो ठहर सी गई इस नदी की शांत सतह को ही आईना समझ इस आवारा बादल ने उसमें झाँका था, अपनी ही तलाश में फिरते एक यात्री ने इस नदी में कुछ ऐसा देख लिया था जो वह कहीं ना देख सका था। 

बरसों से उड़ते बादल ने आज अपनी गति को थाम कुछ देर वहाँ ठहर नदी के भीतर झाँक खुद को देखना चाहा। बादल अपने भीतर बूँदों के रूप में ख़यालों का एक सागर लिये फिर रहा था और अक्सर अपने भीतर की इन बूँदों में खुद ही खो जाता था। कभी सिकुड़ कर नन्हा सा बादल बन जाता तो कभी अपनी इन्हीं सोच को फैला पहाड़ सा विशाल बन जाता। इस वक्त भी वह अपने ही भीतर उतर बूँदों के संसार में तैर रहा था।

नदी, जो पिछले कुछ दिनों से दूसरों से आँख बचाती फिर रही थी आज इस बादल की नज़र से सकुचाई नहीं बल्कि उसे भीतर एक कुलबुलाहट सी महसूस हुई। नदी कुछ पलों तक चुपचाप उस बादल की ओर देखती रही और बादल खुद में ही खोया रहा। नदी को पता ही ना लगा कि उसके भीतर की इस कुलबुलाहट से कलकल की ध्वनि पैदा होने लगी। कलकल की इस अचानक ध्वनि से बादल का ध्यान टूट गया और वह सकपका गया। बादल ने तुरंत नज़रें फेर ली। अब नदी की ओर उसकी पीठ थी। सर्दियों के मौसम में घर की छत पर कुछ इंच निकली चिमनी से उठते धुआँ सा था इस बादल का आकार। ना गोल ना आयत, ना त्रिकोण ना वर्ग। छोटे छोटे कई वक्रों से बना एक ऐसा स्वरूप जिसका कोई ठोस आकार नहीं। छोटा मगर दूर तक फैला हुआ, ऊपर उठता मगर पृथ्वी की सतह के साथ साथ बहता हुआ। ना इसके आरम्भ का पाता ना अंत का। आदतन नदी हर मिलने वाले की छवि और आकार मन में कुरेद लेती थी किंतु इस बार नदी कुछ समझ नहीं पा रही थी कि बादल को किस स्वरूप में याद रखेगी।

बादल आगे बढ़ने को हुआ कि तभी नदी पुकार बैठी – सुनो!

पाठ २

सुनो! कहते ही नदी से झट से अपने मुँह पर हाथ रख लिया। जैसे शब्द उसके अनचाहे ही निकल गये थे। उसे प्रतीत हुआ कि ज़ुबान खोले बिना ही आवाज़ मन से सीधा बाहर निकल आई।

आवाज़ सुनते ही बादल पलट गया।

उसकी पलकों ने 4-5 बार तेज़ी से एक दूसरे को छुआ और फिर अलग हो ठहर गयीं। वह अचरज से नदी की ओर ताकने लगा। क्या सच में इस नदी ने उसे पुकारा था?

बादल को ऐसे तेज़ तेज़ पलकें झपका फिर एक टक खुद को निहारते देख नदी शर्मा गई। नदी ने पलकें धीमे से नीचे कर लीं और ठीक उसी वक्त सूरज क्षितिज को छोड़ धरती के उस पार चला गया। डूबते सूरज का सुनहरा रंग नदी की सतह पर फैलता चला गया। बेरंग नदी अब सूर्यास्त के रंग ओढ़ पिघले सोने सी चमक रही थी। बादल अचरज सा नदी के इस रूप को देख रहा था।

 नदी ने धीमे से पलकों को फिर उठाया और बादल की ओर देखा तो पाया की वह अब भी उसे ताके जा रहा था। 

पल बीतते चले गए और दोनो चुपचाप एक दूसरे को देखते रहे।

नदी ने अपने तल में बहती रेत रूपी वर्णों को खंगाला और शब्द ढूँढने लगी।  वह कभी सकुचाती तो कभी अपने भीतर शब्द टटोलती। बादल बुत सा नदी की ओर देखता रहा मगर धीमी सी साँस भर बीच बीच में पलकों को झपकता देता।

कुछ देर युँ ही बीतते चले गए। आख़िर, चुप्पी को तोड़ते हुए नदी ने बादल से कहा – ऐ बादल तुम तो बंजारे हो और हवा के संग बहते हो। सुना है तुमने पहाड़ों से मरुस्थल तक की यात्रा की है। क्या तुमने कभी सागर को देखा है? कैसा दिखता है वो? क्या उसका आकार बहुत विशाल है? क्या उसका कोई ओर-छोर दिखाई नहीं पड़ता? क्या उसमें संसार की सभी नदियाँ समा सकती हैं? क्या उसके आगे मेरा अस्तित्व बौना सा है? और हाँ मेरे जैसी इतनी सारी नदियों का प्रेम पा कर भी वह इतना खारा क्यूँ है? 

इतने सारे सवालों को एक साथ सुन बादल धीमे से मुस्कुरा दिया। एक लम्बी सी साँस छोड़ी जिससे हम्म की ध्वनि प्रकट हुई। 

बादल ने नज़रें ऊपर उठाई और सोच भरी मुद्रा में दूर कहीं ताकने लगा। 

नदी ने भी उस तरफ़ देखना चाहा जिस तरफ़ बादल देख रहा था किंतु उसे कुछ दिखाई ना पड़ा। सामने तो केवल रिक्त आसमान है। तो यह बादल क्या देख रहा है? क्या अपनी ऊँचाई से वह दूर समुंदर तक देख सकता है?

कुछ पल बाद, बादल ने चुप्पी तोड़ी और बोला – पहले यह बताओ कि तुम इस तरह यहाँ ठहरी हुई क्यूँ हो? जितना मैं तुम्हें देख और समझ पा रहा हूँ, तुम एक नदी हो और अभी जीवन के कुछ ही पड़ावों तक पहुँची हो। फिर यहाँ ठहरी सी क्यूँ खड़ी हो?

नदी चुप हो गई। उसने पलकें झुकाई और फिर अपनी सोच के तल में खो गई।

बादल अब भाँप गया कि नदी कई संकोचों में डूब बहना भूल गई है। जीवन के ऐसे संकोच भरे कुछ मोड़ों  से वह खुद भी तो गुज़र चुका था जब पहले से संयोजित जीवन के उद्देश्य धराशाई हो गए थे और आगे की यात्रा उसे निरर्थक लगने लगी थी। जीवन के इन मोड़ों  से गुज़र कर वह जान चुका था कि जीवन का कोई एक उद्देश्य नहीं होता और ना ही किसी लक्ष्य को पा लेना ही जीवन का उद्देश्य है। वर्षों की उसकी यात्रा ने उसे सिखा दिया था कि जीवन का असली सुख तो आगे बढ़ते रहने में है। अगर लक्ष्य की प्राप्ति हो भी जाए तो भी आगे बढ़ते रहना होता है क्यूँकि रुकना तो अंत है, यात्रा का ही नहीं बल्कि जीवन का भी। जब कभी हम एक उद्देश्य को पा लेते हैं तो जीवन के अगले किसी मोड़ पर दूसरा उद्देश्य कोई दूसरा लक्ष्य हमारा इंतज़ार कर रहा होता है। इसी सिद्धांत को अपन, बादल आधी पृथ्वी का चक्कर लगा चुका था मगर अब तक पूरी तरह बरसा नहीं था। जहां जाता वहाँ से कुछ बूँदें बटोर लेता और जब कभी पृथ्वी के किसी  सूखे हिस्से को देखता तो कुछ बूँदें उसमें से बरस जाती। खुद में से कम होती ये बूँदें उसे ज़रा भी विचलित नहीं करतीं। वह जानता था कि आगे किसी मोड़ पर उसे कुछ और बूँदें मिल जाएँगीं। लेना देना, खोना पाना, मिलना बिछड़ना यह सब तो केवल यात्रा के पड़ाव हैं। वह ना तो पाने की ख़ुशी मनाता ना ही खोने का ग़म। मिलना बिछड़ना उसे ऐसे प्रतीत होते जैसे साँस खींचना और छोड़ना।

किंतु यह सब इस नदी को समझाना मुमकिन ना था। किसी के समझाने से कहाँ कभी कोई समझ पाया है। जवाब तो हमारे भीतर ही होते हैं किंतु हम उन्हें स्वीकारते नहीं। हम जब तक किसी ख़ुशी को खुद पा ना लें ना लें तब तक उसके एहसास को समझ नहीं पाते और जब तक किसी को खो ना दें तब तक उसका महत्तव नहीं जान पाते। वह यह भी जानता था कि हमारी मुश्किलों को कोई दूसरा आसान नहीं कर सकता ना ही हमारे सवालों का सही जवाब दे सकता है। वह तो केवल अनुमान लगा सकता था नदी की दुविधाओं का, असल दुविधा तो उसकी सोच से भी परे होंगी जिन्हें वह जी रही है। बादल के जवाब तो उसके खुद के परिप्रेक्ष्य मात्र होंगे। नदी तो खुद अपने भीतर हर सवाल का जवाब लिए फिर रही है। उसे तो केवल नदी को खुद के भीतर तलाशना सिखाना होगा। 

कुछ सोच विचार कर, बादल नदी से कहता है – मैं तुम्हारे प्रश्नों के उत्तर दे तो दूँ किंतु एक मुश्किल है।

नदी की भोंहें ऊपर उठ जाती हैं और वह बादल को प्रश्न चिन्ह नज़रों से देखती है।

बादल मंद मुस्कान को होंठों पर सजा कहता है – मैंमुश्किल यह है कि मैं एक जगह ज़्यादा देर ठहर नहीं सकता।

वैसे भी तुम्हाही चित की पारदर्शिता मुझे कुछ देर से यहाँ रोके हुए है तो अब मुझे आगे बढ़ना होगा।

नदी ने इतराते हुए तपाक से उत्तर दिया। अरे, तो मैं कौनसा एक जगह ठहरी हुई हूँ! मेरा तो अस्तित्व ही है आगे बहते रहना। क्या तुम इतना भी नहीं  जानते कि  नदी कभी रुक नहीं सकती ? वो तो मैं यहाँ बस थोड़ी देर के विश्राम के लिए रुकी थी ताकि आगे के रास्ते के लिये खुद को तैय्यार कर लूँ। अभी तो मुझे बहुत दूर तक जाना है।

बादल ने चहकते हुए कहा – अरे वाह! यह तो बहुत अच्छी बात है। तो चलो आगे बढ़ते बढ़ते बात करते हैं। मैं नील गगन में उड़ता रहूँगा और तुम हरी जमीं पर मेरे संग संग चलती रहना। यह कह कर बादल आगे बढ़ चला।

नदी ने एक बार फिर अपनी चाल पकड़ी और वह भी आगे की ओर बढ़ चली। 

नदी और बादल अब साथ साथ बह चले थे। साथ साथ मगर ख़ामोश।

कुछ देर यूँ ही खामोशी से आगे बढ़ने के बाद, बादल ने नदी की ओर देखे बिना कहा – एक बात तो बतलाओ, तुम सागर के बारे में इतना जानना क्यूँ चाहती हो?

नदी ने धीमे से कहा क्यूँकि समुन्दर ही मेरी मंज़िल है।

मंज़िल!! हम्म तो मंज़िल को पाने के बाद क्या?

ठहर जाऊँगी।

ठहर जाओगी? मतलब सफ़र का अंत? 

तो क्या मंज़िल के आगे भी कुछ होता है भला?

क्यूँ नहीं  होता? होता है ना।

क्या होता है मंज़िल के बाद?

मंजींल के बाद होता है आगे का सफ़र और एक और मंज़िल, एक और सफ़र और फिर मंज़िलों का कारवाँ।

नदी की आँखों में चमक आ गई। वह चहकते हुए बोली तो क्या सागर के आगे भी ज़ाया जा सकता है?

क्यूँ नहीं जाया जा सकता? सागर कौनसा खुद में अनंत है? वह भी तो जाकर महासागर से मिलता है और फिर एक महासागर दूसरे महा सागर से। प्यारी नदी, अगर कुछ अनंत है तो वह है ज़िंदगी का सफ़र बाक़ी सब तो बस पड़ाव हैं।

नदी ने एक सोच भरे लहज़े  में कहा – अच्छाऽऽऽऽऽऽ 

दोनो फिर कुछ देर चुपचात बहते रहे। बादल हवा के संग संग और नदी ज़मीन के संग। नदी अपनी सोच में डूबी हुई सी और बादल कुछ गुनगुनाता हुआ सा। बीच बीच में दोनों थोड़ा दूर हो जाते और आगे किसी मोड़ पर फिर क़रीब आ जाते, एक दूसरे को देखते और मुस्कुरा भर देते। बादल अपनी यात्राओं की कुछ बातें बताता और नदी चुपचाप इन क़िस्सों को सुनती रहती। बादल की यात्राओं के ये क़िस्से सुन कर नदी  भी प्रोत्साहित होने लगी थी अपने सफ़र में आगे आने वाले पड़ावों के लिये। दो अकेले राहगीरों का साथ चलने और बातचीत का सिलसिला चल पड़ा था। युँ तो दोनो अपने अपने रास्ते पर चल रहे थे किंतु इस बात से अनफ़िज्ञ कि उनके रास्ते अलग होकर भी वे लगभग साथ ही चल रहे थे।

 बहते बहते अगर नदी आगे निकल जाती तो बादल दौड़ कर उसेक क़रीब पहुँच जाता और अगर हवा का झौंका बादल को दूसरी तरफ़ उड़ा ले जाता तो बादल को क़रीब ना पा नदी का मन व्याकुल हो जाता। कुछ पल का साथ अब कई पहर से होता हुआ कई दिनों में बदल गया था। नदी बादल के गुनगुनाने पर थिरकती और बादल नदी की लहरों के संगीत पर उछलता कूदता। बादल अब कुछ नीचे की ओर उड़ने लगा था और नदी सतह से ऊपर उठ कर बहने लगी थी। दिनों के बीतने के साथ साथ, दोनो एक दूसरे के बेहद क़रीब होते ज़ा रहे थे। मगर दोनो में से कोई आने वाले वक्त की बात ना करता।

दोनों एकदूसरे से कहते कुछ नहीं मगर भीतर ही एक दूसरे से प्रेम करने लगे थे। एक सरल, सादा और निसवार्थ प्रेम था ये। दोनो में से कोई भी बदले में दूसरे से ना कुछ माँगता ना कोई चाहत रखता था। इस प्रेम में ना बंदिशें थीं ना अपेक्षायें। 

दोनो ही बस वक्त के साथ बहे ज़ा रहे थे इस बात से अनभिज्ञ कि उत्पत्ति के पूर्व दोनो एक दूसरे में ही लीन थे। दोनो का जन्म पहाड़ कीचोटी पर वर्षों से जमे एक विशाल हिमखंड से हुआ था जो  सूरज की तपिश से अपने 2 खंडों में बंट गया था। 1 खंड को नीले गगन नेइतना लुभाया कि वो हवा की उँगली पकड़ ऊपर उड़ चला और दूसरे कण को हरी धरती ने इस कदर लुभाया कि  वह गृतवाकार्शन  केकंधे पर बैठ बह चली धरती की ओर। 

अपने पूर्व जन्म से अनजान ये दो यात्री आज फिर आ मिले थे, वाष्प और तरल के रूप में। बादल और नदी के रूप में। 

पूर्णिमा की एक रात बादल की नज़र नदी पर पड़ी तो उसने पाया कि नदी चाँदनी में नहाई चाँदी सी चमक रही है और चाँद नदी की सतह पर पूरी रात समकीली बिंदी सा चमकता रहा। कुछ रातें और बीत गयीं और अमावस एक रात बादल ने देखा कि असंख्य तारे नदी के एक छोर से निकल क्षितिज पर होते हुए आसमान में चढ़ते चले आ रहे थे। आसमान का प्रतिबिम्ब शांत बहती नदी की सतह पर स्पष्ट दिख रहा था। ऐसा प्रतीत होता था जैसे अनगिनत तारे नदी के भीतर समा गए हों। यह तय कर पाना कठिन था कि तारे नदी में तैर रहे हैं या नदी ही तारों से बनी है। नदी की इस ख़ूबसूरती को देख बादल मंत्रमुग्ध सा रह गया। उसे ऐसा प्रतीत हुआ जैसे पूरा ब्रह्मांड नदी में बसता है। रात का अंधेरा छँटा तो उगते सूरज की सुनहरी रौशनी में नदी सोने सी दमकने लगी। तारों से सजी ख़ूबसूरती अब सुनहरी किरणों में लिपट और खूबसूरत हो गयी थी।

नदी की इस ख़ूबसूरती को देख बादल का मन विचलित हो उठा, उसका जी चाहा की ज़ोरों से बरस जाए और जल से लबालब इस नदी को अपने प्रेम के जल से भीगा दे। बादल नदी  के और क़रीब उतर आता  है। बादल को अपने इतना क़रीब पा नदी ठंडी पड़ जाती है। जिस पल का वो कब से इंतज़ार कर रही थी वो पल बस आ ही गया है। उसके मन में बसा बादल उसके तन को छूने ही वाला है। अगले ही पल में बादल उसके हर अंग को छू लेगा और वह बादल की हो जाएगी। वह बादल के आलिंगन के लिए व्याकुल हो उठती है और आने वाले पल को सोच आँखें बैंड कर लेती है।

मगर नदी के क़रीब पहुँचते ही बादल को यह क्या हो गया?

पलक झपकते ही बादल केवल धुँध बनकर रह जाता है। वो हाथ बढ़ाता है तो पाता है कि उसका हाथ वहाँ है ही नहीं। जिन होठों से वह नदी को चूमना चाहता था वे होंठ तो वहाँ रहे ही नहीं। बल्कि नदी की सतह पर झलकता उसका चेहरा भी अब वहाँ दिखाई नहीं पड़ता।

 बादल घबरा जाता है और तुरंत नदी से दूर हो ऊपर उठने लगता है।

 नदी आँखें खोलती है तो बादल को अपने क़रीब ना पा बेचैन हो उठती है। बादल को दूर जाता देख वह अपनी लहर रूपी बाहों को उठा  बादल को थाम लेना चाहती है किंतु बादल तो अब बादल ही नहीं रहा। उसकी बाहें जितना उसे छूना चाहती हैं उतना ही उसे खोने लगतीहै।

पल भर में दोनो एक दूसरे से दूर हो जाते हैं।

बादल का सम्मोहन टूट जाता है। उसके कानों में पहाड़ों की वो बात गूंजने लगती है कि उसका जन्म दूसरों के लिये हुआ है, उसे जगह जगह घूम कर जीवों की प्यास बुझानी है। वह अकेले जीने के लिये बना है। वह चाहकर भी किसी का साथ आजीवन ना दे पाएगा ना ही पा सकेगा। 

उसे अपना वर्षों पहले लिया  एकागी जीवन व्याप्त कर निरंतर यात्रा करते रहने का प्रण भी स्मरण हो आता है।

ठीक उसी पल बादल का दिमाग़ उसके भीतर से निकल कर आसमान की ऊँचाइयों पर जा पहुँचता है और उससे चीख चीख कर कहने लगता है  –

 तुम दोनो की तो मंज़िल ही अलग है। नदी को सागर की ओर जाना है और तुझे सूखी बंजर ज़मीनों की ओर। तुझे तो अभी कई मरुस्थलों में जल बाँटना है। 

क्या नदी इन सूखी बंजर ज़मीनों पर चल सकेगी? क्या वह सच में अपने प्रेम के स्वार्थ में नदी को ऐसे दुर्गम पथों पर ले जाएगा? 

और अगर नहीं ले गया तो क्या नदी उसके लौट आने की  प्रतीक्षा करेगी? 

क्या तब तक नदी अपनी मंज़िल, सागर की ओर नहीं  बढ़ जाएगी?

अगर नदी प्रतीक्षा कर भी ले तो  क्या वह यह सुनिश्चित कर सकता है कि इन जटिल खुश्क परिस्थियों में वह खुद में वापस लौटने युक्त नमी बचा पाएगा?

अगर उसने मार्ग में ही दम तोड़ दिया तो क्या नदी उम्र भर उसके लिए यहाँ खड़ी तड़पती नहीं रह जाएगी?

अगर तु नदी के प्रेम में पड़ आज यहाँ बरस कर खुद को सूखा देगा तो उन मरुस्थलों का क्या जो सूखते तड़पते तेरी प्रतीक्षा कर रहे होंगे, उनकी प्यास कौन बुझाएगा?

क्या तु प्रेम में स्वार्थी बन अपने जन्म के मक़सद को ही भूल जाएगा?

हर सवाल के जवाब में बादल का मन चीख उठता – नहीं। नहीं। नहीं नहीं नहीं।।।।।।

पृथ्वी पर कुछ पलों के लिये अंधेरा छा जाता है। 

बादल नदी से प्रेम करने लगा था और जानता था कि नदी भी बादल को उतना ही चाहती है। यह ख़याल कि वह सदा नदी के क़रीब नहीं रह सकता, बादल को व्याकुल कर देता है और उसके सीने में बड़े ज़ोर का दर्द उठता है। 

बादल इन सवालों के जवाबों के बारे में  जितना सोचता है, उसके सीने का दर्द और बढ़ता चला जाता है। इस दर्द से बादल का सीना फट पड़ता है।

उसके अंदर से एक चिंगारी निकल पृथ्वी की सतह पर जा गिरती है।

पृथ्वी की सतह पर खड़ा एक हरा भरा पेड़ धूँ धूँ करके जल उठता है और आसमान बादल की कर्राह से गूंज उठता है।

ये सब देख नदी उफन पड़ती है। उसकी लहरें बलशाली हुए जा रही हैं। अपने चित से विपरीत वह एक ध्वंसात्मक रूप ले लेती है।

केवल आवाज़ें ही सुनाई पड़ती हैं। बादल के गरजने की और नदी की लहरों के ऊपर उठने की। 

इसी बीच बादल के फटे सीने से दर्द बरस पड़ता है। धरती एक ऐसी वर्षा देखती है जो उसने ना कभी देखी थी ना ही कभी सुनी थी। यह कह पाना कठिन है की यह वर्ष बादल के अश्रु हैं, उसका प्रेम है या उसका प्रतिकार।

बादल और नदी के इस विरह देखने पवन तेज़ गति से वहाँ पहुँच जाता है। चारों तरफ़ कोहराम सा मच जाता है। कहीं कुछ दिखाई नहीं पड़ता। 

पर क्या बादल बरस बरस का इतना ख़ाली हो सकता है की पूर्णतः नदी में समा जाए?

क्या नदी बादल के प्रेम की तपिश में भाप बन आसमान की ओर उठ खुद को मिटा सकती है?

क्या प्रेम इतना बलशाली होगा?

क्या प्रेम इतना स्वार्थी होगा?

पूर्णमासी की रात

आज चाँद धरती के निकटतम होगा,

खुद को धरती के इतना क़रीब पा,

चाँद ख़ुशी से खिल उठेगा,

ख़ुशी से वह अपने पूर्ण रूप में लौट,

धरती को अपना चमकता चेहरा दिखलाएगा ।

कई दिनों के इंतज़ार के बाद,

 ये दोनों चाहनेवाले,

एक दूसरे के बेहद क़रीब  होंगे, 

पेड़ नाचने लगेंगे,

चकोर चहकने लगेगा, 

सागर बहकने  लगेगा ,

आसमान प्रज्वलित हो उठेगा, 

तारे छिप जाएंगे, 

पंछी भोर व रात्रि का अंतर भूल जाएंगे, 

इंसान इस रूप को देखने के लिए 

सब छोड़ छाड़  मुंडेर पर चढ़ बैठेंगे,

अन्धकार का प्रतीक जंगल भी,

चाँद की रौशनी में चांदी सा चमक उठेगा,

जंगल के जानवर चाँद के इस रूप से मन्त्र मुग्ध हो,

 अपनी भूख भी भूल  जाएंगे।

अपने प्रियतम को इतना करीब महसूस कर,

धरती के तन मन में खिंचाव का एक भूकंप  उठेगा, 

और उसके भीतर हलचल मचा देगा,

धरती के सीने (सागर) तल में एक ज्वार उठेगा,

धरती अपनी लहरों रुपी बाहों को ऊपर उठा चाँद को छू लेना चाहेगी,

हिमालया अपनी  और ज़्यादा ऊंचा ना उठने की प्रतिज्ञा पर क्षुब्द हो उठेगा,

धरती को अपने प्यार में व्याकुल देख, 

धरती के रोम रोम को छू लेना चाहेगा

किंतु बस देख भर रह जाएगा।

इन दोनों के मिलन की व्याकुलता को देख 

सृष्टि में उथल पुथल  मच जायेगी,

मगर फिर भी  इनका मिलन ना हो सकेगा,

दोनों अपनी कसमों में बंधे 

एक दुसरे को बस देख भर रह जाएंगे, 

पर छू  ना पायेंगे!

चाँद धरती के इतना करीब आ 

एक बार फिर अपनी राह पर चल पड़ेगा,

एक मुसाफिर की तरह ,

रातों को भटकते फ़कीर की तरह,

प्यार में तड़पते प्रेमी की तरह।

क्षोभ और दुःख में वह अपना तेज़ खोने लगेगा,

देखते ही देखते 

चाँद गुमनामी के अँधेरे में डूब जाएगा

और विलुप्त हो जाएगा।

मगर पृथ्वी के लिए उसका प्रेम,

उसे उस अन्धकार से वापस खींच लाएगा,

चाँद धीरे धीरे अपना अकार बढ़ा,

पृथ्वी के करीब पहुँचने की जुगत में फिर लग जाएगा,

क्यूँकि प्रेम, प्रेमिका की प्राप्ति भर तक सिमट नहीं जाता,

प्रेम सदैव अमर रहता है,

दो चाहने वालो के दिलों में। 

ना जाने इनका ये अमर प्रेम,

कितने लाखों वर्षों से चलता आया है 

ना जाने ये अमर प्रेम

कितने करोड़ों वर्षों तक यूँ ही चलता रह जाएगा।

%d bloggers like this: